पीछे गुज़रती रेल की पटरियों पर,

कुछ आगे को सरकती हुई ज़िन्दगी।

 

#दिलसे

Tags: