अब मैं सुबह अख़बार नहीं पढ़ता,

कुछ पल सुकून के मिल जाते हैं।

 

#दिलसे

Tags: